Positive Stories

2 मित्रो की कहानी – एक सफल दूसरा विफल पर क्यों ?

2 Friends

2 मित्रो की कहानी

रवि और रमेश दोनों बचपन के पक्के दोस्त थे। स्कूल की पढाई साथ साथ ही पूरी की और अब कॉलेज की डिग्री भी दोनों लोगों ने साथ में ही पूरी की। किस्मत की बात तो देखो दोनों दोस्तों को एक ही कंपनी में अच्छी नौकरी भी मिल गयी।

रवि और रमेश दोनों ही बहुत मेहनती थे। कंपनी का मालिक उन दोनों के काम से बेहद खुश रहता था। समय का पहिया अपनी रफ़्तार से चलता गया और यही कोई 5 साल बाद रवि को कंपनी ने मैनेजर बना दिया लेकिन रमेश आज भी एक जूनियर कर्मचारी ही था।

रमेश को दोस्त के मैनेजर बनने की ख़ुशी तो थी, लेकिन रमेश कही न कही खुद को हारा हुआ महसूस कर रहा था। उसे लगा कि मैं भी मेहनत करता हूँ और कंपनी का मालिक मुझे भी मैनेजर बना सकता था लेकिन उसने ऐसा नहीं किया, आखिर क्यों ?

अगले दिन रमेश बेहद गुस्से में ऑफिस आया और आते ही उसने अपनी नौकरी से रिजाइन कर दिया। अब पूरे ऑफिस में खलबली का माहौल हो गया, ऑफिस का इतना पुराने और मेहनती बन्दे ने अचानक रिजाइन कैसे कर दिया ?

कंपनी के मालिक ने रमेश को बुलाया तो रमेश ने कहा कि आपको मेहनती लोगों की कद्र ही नहीं है आप तो केवल चापलूस लोगों को ही मैनेजर बनाते हैं। कंपनी के मालिक ने मुस्कुरा कर कहा – चलो अब तुम जा रहे हो तो जाते जाते मेरा एक काम कर दो, जरा बाजार में देखो तो कोई तरबूज बेच रहा है क्या ?

रमेश बाजार गया और आकर बोला – हाँ एक आदमी बेच रहा है
मालिक – किस भाव में बेच रहा है ?
रमेश फिर से बाजार गया – तरबूज 40 रूपए किलो है

अब मालिक ने रवि को बुलाया और कहा – जरा बाजार में देखो तो कोई तरबूज बेच रहा है क्या ?

रवि बाजार गया और वापस आकर बोला – बाजार में केवल एक ही आदमी तरबूज बेच रहा है और वह 40 रूपये किलो का भाव बता रहा था लेकिन मैंने उससे  थोडा मोल भाव किया तो 10 किलो तरबूज 200 रूपए में देने को तैयार हो गया| अगर आपको  मंगाना है तो मैं उसका फोन नंबर भी ले आया हूँ, आप खुद भी मोल भाव कर सकते हैं।

मालिक मुस्कुराया और रमेश से बोला – देखा यही फर्क है तुममें और रवि में, बेशक तुम भी मेहनती हो और ये बात भी मैं अच्छी तरह से जानता हूँ लेकिन इस पद के लिए रवि तुमसे ज्यादा उचित है।

रमेश को सारी बात समझ आ गयी और उसने अपना रिजाइन वापस लिया और फिर से कंपनी में काम करने लगा।

दोस्तों आजकल के माहौल में रमेश वाली समस्या बड़ी आम हो गयी है। जब हम किसी को सफल होता देखते हैं तो यही सोचते हैं कि यार मेहनत तो मैं भी बहुत करता हूँ लेकिन सफल नहीं हो पाता शायद अपनी किस्मत ही फूटी है। कभी हम वक्त को दोष देते हैं तो कभी हालात को, लेकिन हम कभी सफल व्यक्ति में और खुद में फर्क ढूंढने की कोशिश नहीं करते।

मैं मानता हूँ कि आप भी मेहनती हैं लेकिन सही दिशा, सही समय और सही सूझबूझ के साथ जो मेहनत की जाती है सिर्फ वही रंग लाती है। अन्यथा तो गधा भी बहुत मेहनत करता है लेकिन उसे  सुबह से शाम तक अपने मालिक के डंडे के सिवा उसे कुछ नहीं मिलता।

अपनी कमियों को देखो, सोचो कि जो हमसे आगे है वो क्यों हमसे बेहतर है ? ऐसा क्या है उसके पास जो हमारे पास नहीं है ? आपको आपके सारे सवालों का जवाब खुद ही मिल जायेगा।

दोस्तों मुझे उम्मीद है कि ये कहानी आपको बेहद पसंद आई होगी और हाँ, कमेंट करना ना भूलियेगा। आपके लिए नीचे कमेंट बॉक्स है जिसमें आप अपनी सभी बातें हमें लिखकर भेज सकते हैं। हमें आपके संदेशों का इंतजार रहेगा।

धन्यवाद!!!