Uncategorized

Communication Skills के बेहतरीन नुस्खे

Communication और skill देखा जाये तो यह दो अलग-अलग word है पर जब यह दोनों word “Communication Skill ” साथ में मिल जाये तो किसी भी इंसान के सफलता के मार्ग खोल सकते है|

दोस्तों अगर सही समय पर सही बात सही तरीके से कही जाये, तो उसका प्रभाव प्रभावशाली पड़ता है क्यूंकि किसी से बेहतर तरीके से वार्तालाप करना अथवा एक अच्छा संप्रेषक होना ही एक अच्छे प्रवक्ता की quality होती है| और सही मायने में यही communication skill की नीव होती है|

दोस्तों कई बार ऐसा होता है की हम बहुत मेहनत करते है उसके बावजूद सफलता प्राप्त नहीं कर पाते इसका मुख्य कारण सही कम्युनिकेशन स्किल्स का आभाव हो सकता है जिस पर हमारा ध्यान अभी तक नहीं गया है|बात करना एक कला है मगर हर इंसान को अपनी बात रखने का सलीका आता हो यह भी जरूरी नहीं है, दोस्तों अगर आपके पास एक अच्छी कम्युनिकेशन स्किल्स होगी तो आप जिंदगी के हर लम्हे में अपना बेस्ट दे पाएंगे , कम्युनिकेशन स्किल्स के लिए यह जरुरी नहीं है की अगर आप एक स्टूडेंट है, कोई मीडिया पर्सन है या जॉब करने वाले है सिर्फ तभी आपको कम्युनिकेशन स्किल्स की नीड हो हर प्रोफेशन में कम्युनिकेशन स्किल्स सबसे ज्यादा जरूरी होता है, क्यूंकि जब तक आप किसी को अच्छे से कम्यूनिकेट करना नहीं सिख पाएंगे आपकी ग्रोथ नहीं हो पायेगी

तो दोस्तों आज हम पहलस.इन पर कम्युनिकेशन स्किल्स के लिए ऐसी ही कुछ शानदार टिप्स और नुस्खे लेकर प्रस्तुत हुए हैं, जिसे आप अपने दैनिक जीवन में अपना कर अपने कम्युनिकेशन स्किल्स को बेहतर और अट्रैक्टिव बना सकते है:

  1. What is The Sense of Communication Skill: दो लोगों के बिच में अलग अलग तरीको से सिग्नल्स या मेसेजस के ट्रांसफर को  कम्युनिकेशन स्किल्स कहते है| कम्युनिकेशन स्किल्स का मतलब होता है की जब आप किसी व्यक्ति से बात कर रहे है तो जरुरी है की आप उसकी बात पूरा ध्यान लगा कर सुने क्यूंकि जब आप उसकी बात पूरी तरह से अच्छे से समझ सकेंगे तभी आप अपनी बात को भी सही तरीके से रख और समझा पाएंगे| और एक अच्छा वक्ता वही होता है जो अपनी वक्तव्य कला से हर श्रोता को इस तरह आकर्षित कर ले की हर श्रोता को यह फील हो की उससे प्रत्यक्ष तरीके से समझा और बात की जा रही है|
  2. अपने Point of View रखे और उसके लिए Stand ले: किसी भी कन्वर्सेशन में निडर होकर आत्मविश्वास के साथ अपनी बात रखें| कई बार हम कश्मकश में आ जाते है की हमारे बातो को महत्व दिया भी जायेगा या नहीं? कही हमारी बात का मजाक ना बन जाये? या हमारी बात दुसरो को पसंद आएगी भी या नहीं ? दोस्तों जब ऐसी बाते हमारे जेहन में आने लगती है तो ये हमारे मनोबल को कमजोर बनाने लग जाती है और कही ना कही हमारा आत्मविश्वास गिरने लग जाता है| दोस्तों हमे कभी ऐसा नहीं सोचना चाहिए की हमारे बातो को महत्व नहीं दिया जायेगा हमेशा निडर होकर बिना घबराये अपने विचार रखने चाहिए| क्यूंकि ज्यादा से ज्यादा क्या होगा या तो आपके विचार लोगो को पसंद आएंगे या तो नापसंद आएंगे पर आपको कॉन्फिडेंस आएगा की कम से कम आप जो चाह रहे थे कहना वह कह तो सके| और हमें जितना हो सके इस तरह की नेगेटिविटी से दूर रहना चाहिए| इसका सबसे अच्छा तरीका यह है की हमे अपने विचार व्यक्त करने से पहले एक बार खुद से सोचना चाहिए और तय करना चाहिए की हम जो कहना चाह रहे है उसका पॉइंट क्या है, हमें थोड़े टाइम शांति से अपने विचार व्यक्त करने से पहले सोचना चाहिए और फिर अपने भाव व्यक्त करने चाहिए|
  3. अपने Point Of View पर Judgement ले: अपने विचार वयक्त करने के बाद हमें अपने Point पर Judgement भी अवश्य लेना चाहिए, तथा श्रोताओ के मन में चल रहे सवालो के जवाब भी देने चाहिए|  हो सकता है श्रोताओ का जुद्ग्मेंट आपके पॉइंट ऑफ़ व्यू के फेवर में ना हो ऐसे में हमें कभी अपने मनोबल को गिरना नहीं चाहिए क्यूंकि कई बार लोग आपसे बेहतर एक्सपीरियंस वाले हो सकते है ऐसे में वह आपके पॉइंट ऑफ़ व्यू पर practle कमैंट्स करेंगे तो उनके कमैंट्स को हमेशा पॉजिटिव way में लेकर अपने नॉलेज और थॉट को और क्लियर करना चाहिए नाकि उनके कमैंट्स से हताश होकर दुबारा किसी भी तरह के कन्वर्सेशन में भाग लेने से बचना चाहिए|  
  4. Eye Contact और Gesture का प्रयोग करे: कई बार ऐसा होता है की श्रोता आपकी बात नहीं समझ पाते और फिर भी आपके हाँ में हाँ कह देते है| क्यूंकि हो सकता है वह आपसे सहज ना हो| ऐसे में आपको बात करते समय अपने हाव भाव के साथ साथ श्रोता के मुख के  हाव भाव को भी समझना चाहिए ऐसे में आप बहुत अच्छे तरह से समझ पाएंगे की जो आप कहना चाहते थे वह श्रोता तक पंहुचा भी या नहीं| श्रोता तक अपनी बात पहुचाने के लिए जरुरी है की आप एक अच्छा वक्ता हो जो अपनी बात पुरे उत्साह और बीच-बीच में हास्यपूर्ण विचारो को साझा करते हुए व्यक्त करे| इसके अलावा आपको अपने गेस्टुरेस और ऑय कांटेक्ट का भी प्रॉपर इस्तेमाल करना चाहिए इससे इम्प्रैशन अच्छा और पॉजिटिव पड़ता है |
  5. Body Language और Attitude Proper रखे: एक अच्छा संप्रेषक बनने के लिए जरुरी है की आपका बॉडी लैंग्वेज एंड ऐटिटूड बहुत प्रॉपर हो| इसके लिए आपको जितना हो सके अभ्यास करना चाहिए, क्यूंकि अभ्यास ही एक मात्र ऐसा तरीका है जो आपको बेहतर से और बेहतर बनाने में मदद कर सकता है| इसके अलावा आपको अपनी listening skill पर भी work करना चाहिए| क्यूंकि एक अच्छे वक्ता की यह पहचान होती है की वह एक अच्छा स्पीकर तभी बन सकता है जब वह एक अच्छा listener हो| और वैसे भी किसी भी तरह के communication में जितना महत्त्व sender का होता है उतना ही महत्व receiver का भी होता है.

दोस्तों आज के इस दौर में बहुत competition है  ऐसे में अगर आप चाहते है की लोग आपको नोटिस करे तो इसके लिये सबसे आसान तरीका यही है की आप जितना हो सके अपने कम्युनिकेशन स्किल्स पर  काम करे| दोस्तों आप कम्युनिकेशन स्किल्स की इन तकनीक को अपने दैनिक जीवन में अपना कर अपनी पर्सनालिटी को निखार सकते है|

दोस्तों आपको ये आर्टिकल कैसा लगा हमें comment कर जरूर बताये| और अगर आर्टिकल   useful लगे तो इसे like जरूर करे और अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूले|